उत्तर प्रदेशभारत

Budaun Case: जावेद पर दोष सिद्ध होने पर हो सकती है ये सजा

Police takes away Javed
848views

बदायूं में दो बच्चों की हत्या के मामले में आरोपी जावेद को रिमांड के लिए सीजेएम मोहमद साजिद के न्यायालय में शुक्रवार को पेश किया गया। न्यायालय ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। जावेद के खिलाफ हत्या समेत चार धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज है। वरिष्ठ अधिवक्ता अखिलेशकांत सक्सेना के मुताबिक जावेद पर लगी धाराओं में दोष सिद्ध होने पर आजीवन कारावास और मृत्यु दंड तक की सजा का प्रावधान है।

Police takes away Javed

बाबा कॉलोनी निवासी विनोद कुमार के दो बच्चों आयुष (13) व अहान (06) की 19 मार्च को शाम 6.30 बजे निर्मम हत्या की गई। हत्याकांड में नामजद जावेद ने मुठभेड़ में मारे जाने के डर में नाटकीय ढंग से 21 मार्च को बरेली में आत्मसमर्पण किया था। बदायूं पुलिस उसे लेकर आई। करीब 24 घंटे वह पुलिस हिरासत में रहा। पुलिस के मुताबिक पूछताछ में उसने खुद को निर्दोष और साजिद को हत्यारा बताया। साजिद को पुलिस ने वारदात के तीन घंटे बाद ही मुठभेड़ में ढेर कर दिया था। शुक्रवार को 11 बजकर 35 मिनट पर कड़ी सुरक्षा के घेरे में आरोपी जावेद को न्यायालय में पेश किया गया। जहां से न्यायालय ने जावेद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। पेशी की अगली तारीख 4 अप्रैल है।

Police takes away Javed

पुलिस ने जो मुकदमा जावेद और मुठभेड़ में मारे गए उसके भाई साजिद पर दर्ज किया है, उसके मुताबिक हत्या के इरादे से एक साथ दोनों विनोद के घर घुसे थे। दोनों पर हत्या और जानलेवा हमले की धाराएं भी लगाई गईं हैं।

Police takes away Javed

इन धाराओं में दर्ज मुकदमे में जेल गया है जावेद

धारा 452 – अवैध रूप से घर में घुसना (सात साल तक की सज़ा और अर्थदंड)

धारा 307- हत्या का प्रयास (10 साल तक की सज़ा और जुर्माना)

धारा 302- हत्या ( मृत्यु दंड या आजीवन कारावास की सजा के साथ जुर्माना)

धारा 34 – सामान्य आशय ( दो या दो से अधिक व्यक्ति कोई अपराध करें )

Police takes away Javed

यह हुई थी घटना

बदायूं में 19 मार्च की शाम को बाबा कॉलोनी में ठेकेदार विनोद ठाकुर के दो बेटों आयुष (13) और अहान (6) की चाकू से गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। ठेकेदार के मकान के सामने हेयर सैलून चलाने वाले साजिद ने इस वारदात को अंजाम दिया था। वारदात के तीन घंटे के बाद पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपी साजिद को मुठभेड़ में ढेर कर दिया था।

Police takes away Javed

सनसनीखेज दोहरे हत्याकांड से शहर में तनाव फैल गया था। घटना के बाद आक्रोशित भीड़ ने चार खोखों में आग लगा दी थी। स्थिति को देखते हुए कई थानों की फोर्स और पैरामिलिट्री फोर्स लगाई गई थी।

Police takes away Javed

पुलिस के मुताबिक जावेद ने पूछताछ में बताया कि साजिद मानसिक बीमार था। बच्चों से नफरत करता था। इसलिए उसने आयुष और अहान की हत्या की, लेकिन यह वजह पीड़ित परिवार व मोहल्ले के लोगों के भी गले नहीं उतर रही। परिजनों का कहना है कि रोजाना कई बच्चों के बाल काटने वाला साजिद ऐसी नफरत कैसे कर सकता है।

 

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response