उत्तर प्रदेशभारत

सिंचाई विभाग कार्यालय में तैनात जिलेदार को रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

District Collector caught with bribe
79views

ठाकुरद्वारा में एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने शुक्रवार को ठाकुरद्वारा स्थित सिंचाई विभाग अफजलगढ खंड के कार्यालय में जिलेदार विजय वीर सिंह को पांच हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार कर लिया। ठाकुरद्वारा तहसील में जिलेदार प्रथम के पद पर तैनात विजयवीर सिंह ने नोटिस समाप्त करने के नाम पर एक किसान से रिश्वत मांगी थी।

आरोपी के खिलाफ ठाकुरद्वारा थाने में केस दर्ज किया गया है। डिलारी के काजीपुरा गांव निवासी मासूम अली ने अपने घर के पास नहर पर आने जाने के लिए पटला डाल रखा था। जिस पर जिलेदार ने मासूम अली को विभागीय कार्रवाई करते हुए नोटिस जारी किया था।

मासूम अली ने नोटिस को समाप्त करने के लिए और घर से आने-जाने की समस्या बताते हुए पटला डालने की अनुमति देने की मांग की थी। मासूम अली के अनुसार इस पर जिलेदार ने उससे 10 हजार रुपये की मांग की। पैसे न देने पर उसका नोटिस समाप्त करने से मना कर दिया था।

इस पर मासूम अली ने कहा कि वह उन्हें 5000 पहले देगा और फिर नोटिस समाप्त होने पर शेष रकम दे देगा। मासूम अली ने 13 मार्च को इसकी शिकायत एंटी करप्शन ब्यूरो के मुरादाबाद कार्यालय में की थी। इसके बाद एसीबी टीम ने जिलेदार को पकड़ने के लिए जाल बिछा दिया।

शुक्रवार दोपहर करीब पौने दो बजे सिंचाई विभाग ठाकुरद्वारा के कार्यालय में छापा मारा। मासूम अली ने जैसे ही जिलेदार विजय वीर सिंह को 5000 रुपये दिए, टीम ने तुरंत जिलेदार को रंगे हाथों पकड़ लिया।

जिलेदार को पकड़ने वाली टीम में इंस्पेक्टर विनोद कुमार एवं नवल मारवाह, उप निरीक्षक विजय कुमार, मुख्य आरक्षी सतीश कुमार और कृष्ण पाल सिंह, आरक्षी दीपक राहुल, प्रियंकु कुमार, चालक मिंटू शामिल थे।

सिंचाई विभाग के कार्यालय में कार्रवाई करने के बाद टीम जिलेदार विजयवीर सिंह को लेकर कोतवाली पहुंची। एसपी देहात संदीप कुमार मीना ने बताया कि एसीबी के इंस्पेक्टर की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

कोतवाली में दर्ज कराया मुकदमा

कोतवाली पुलिस ने पांच हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़े गए सिंचाई विभाग के जिलेदार के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा कायम किया है। एंटी करप्शन टीम के प्रभारी विनोद कुमार की तहरीर पर पर पुलिस ने जिलेदार विजय वीर सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम की विभिन्न धारा के अंतर्गत मुकदमा कायम किया है। एंटी करप्शन की टीम शनिवार को विजयवीर सिंह को कोर्ट में पेश करेगी।

12 कर्मचारी रिश्वत लेते पकड़े जा चुके

ठाकुरद्वारा क्षेत्र में अब तक 12 अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ रिश्वत लेते हुए कार्रवाई हो चुकी है। क्षेत्र में सबसे पहले वर्ष 2005 में नायब तहसीलदार हर्ष चावला को विजिलेंस की टीम ने तहसील में रिश्वत लेते पकड़ा था। इसके बाद वर्ष 2006 में एंटी करप्शन की टीम ने एबीएसए केके राय को, 2006 में पूर्ति निरीक्षक प्रभाकर देव, 2010 में तहसीलदार राजीव उपाध्याय, 2011 में कांस्टेबल कांस्टेबल शकील अहमद और उपनिरीक्षक महेंद्र पाल, 2015 में पूर्ति निरीक्षक नरेश कुमार को एंटी करप्शन टीम ने रिश्वत लेते पकड़ा था। 2022 में बिजली विभाग के जेई पंकज शर्मा, वर्ष 2023 में थाना डिलारी की उपनिरीक्षक पिंकी शर्मा को रिश्वत लेते एंटी करप्शन की टीम ने पकड़ा था ।

 

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response