अजब आश्चर्यअपराधउत्तर प्रदेशराजनीति

हमास से बंधकों की रिहाई के समझौते के बाद भी इसराइली परिवारों को भरोसा नहीं

132views

हेन एविग्दोरी इसराइल के जाने माने टेलीविज़न कॉमेडी राइटर हैं. उनका कहना है कि उनका काम हमेशा लोगों को हँसाने का रहा है. लेकिन पिछले 48 दिनों से यह ‘मेरी बेटियों को वापस लाने’ के अभियान में बदल गया है.

उनकी अंतिम बात, अपनी 52 साल की पत्नी शैरोन और 12 साल की बेटी नोआम से सात अक्टूबर को सुबह 10 बजे हुई थी. ‘उन्होंने कहा था कि वे सेफ़ रूम में जा रहे हैं और सब कुछ ठीक होने वाला है.’

हेन कहते हैं, “वे दक्षिणी इसराइल में सबसे शांतिपूर्ण किबुत्ज़ गए थे. लेकिन वहाँ जो कुछ हुआ, उन सबके लिए हममें से कोई तैयार नहीं था.”

“किबुत्ज़ बेरी में रह रहे मेरी पत्नी के भाई को देखने के लिए हम सभी जाने वाले थे, लेकिन अंतिम पलों में बेटों ने घर पर ही रुकने का फ़ैसला किया जबकि बेटियां साथ चली गईं. अगली ख़बर हमें दक्षिण में बहुत बड़े उपद्रव की मिली और पहले दो हफ़्ते तक तो उन्हें लापता घोषित कर दिया गया था- और इसके बाद हमें उनके बंधक बनाए जाने का पता चला.”

हेन एविग्दोरी के परिवार और अधिकांश बंधकों ज़िंदा रहने के कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं. बुधवार को जब बंधकों के रिहाई के लिए हुए समझौते की घोषणा की गई उसके बाद उनमें उम्मीद जगी है कि रिहा होने वाले लोगों में उनकी पत्नी और बेटी भी होगी.

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response