उत्तर प्रदेशभारतमुजफ्फरनगर

Muzaffarnagar: तीन जिलों को जोड़ने वाली लालूखेड़ी से बलवाखेड़ी तक नहर पटरी के नवीनीकरण को मंजूरी

The_X_India_khbr jahan_hum vahan
47views

चरथावल। शासन ने तीन जिलों को जोड़ने वाली लालूखेड़ी से बलवाखेड़ी तक नहर पटरी के नवीनीकरण को मंजूरी दी है। गड्ढों में तब्दील 18 किमी पटरी का नवीनीकरण 282 लाख रुपये का बजट मंजूर हुआ है। क्षेत्र के हजारों लोगों का आवागमन सुलभ होगा और हादसों से मुक्ति मिलेगी। लोनिवि के निर्माण खंड प्रथम ने इस कार्य की निविदा आमंत्रित कर दी है।

करीब पांच साल पहले लालूखेड़ी से बलवाखेड़ी तक नहर पटरी का चौड़ीकरण के साथ नव निर्माण हुआ था। बलवाखेड़ी ब्लॉक और जिले का अंतिम गांव है। शामली, मुजफ्फरनगर और सहारनपुर को जोड़ने वाला यह प्रमुख मार्ग माना जाता है। सहारनपुर के लोग नानौता से नहर के रास्ते बलवाखेड़ी, जडौदा पांडा, बिरालसी, रोनी हरजीपुर लालूखेड़ी में पानीपत-शामली खटीमा मार्ग पर चढ़ते हैं। नहर पटरी से भौराकलां होकर और फुगाना में मेरठ करनाल हाइवे पर चढ़ने का बेहतर मार्ग है। इससे जाम के झाम से मुक्ति और समय की बचत होती है। बरसात के दिनों में नहर की पटरी कई जगह से क्षतिग्रस्त हो गई थी। नहर पटरी से शामली जिले के बाबरी, हिंड आदि पहुंचने के संपर्क मार्ग जुड़ते हैं। शासन ने मार्ग के नवीनीकरण को मंजूरी प्रदान कर दी है।

पटरी दबने से हिचकोले लेते हैं वाहन

रोनी हरजीपुर के ग्राम प्रधान विनाेद पुंडीर कहते है इस पटरी से तीन जिलों के हजारों वाहन रोज गुजरते हैं। इस बार बरसात में पटरी कटने से क्षतिग्रस्त हो गई थी। हादसे बढ़ गए थे। पटरी के नवीनीकरण होने से हरियाणा और सहारनपुर आने जाने में कम दूरी में सफर तय करने में दिक्कत खत्म होगी।

बलवाखेड़ी के किसान रामभूल सिंह का कहना है कि कई सालों से नहर पटरी के निर्माण के बाद सहारनपुर पहुंचने में 50 से ज्यादा गांवों के लोगों को आसानी है। चरथावल के लोगों को थानाभवन नहीं जाना पड़ता, बल्कि जाम और भीड़ से बचने को नहर पटरी से नानौता होते हुए सहारनपुर और हरियाणा के जिलों में पहुंचते हैं। सड़क के नवीनीकरण से तीन जिलों के लोगों को फायदा होगा।

इन सड़कों का होगा उद्धार, होगा फादा

लोनिवि ने 1.90 किमी चरथावल -लुहारी मार्ग, 1.71 किमी बधाई खुर्द से सैदपुर कलां मार्ग के निर्माण के लिए टेंडर निकाले हैं। वहीं कुटेसरा-बुड्ढ़ाखेड़ा मार्ग मरम्मत के लिए 34 लाख रुपये मंजूर हुए हैं। किसान कमलकांत त्यागी, बीडीसी लुहारी संजय सैनी और करेश त्यागी कहते हैं कि इन सड़कों के निर्माण से स्कूल-कॉलेज में आवागमन और फसल ढुलाई में किसानों को बड़ा फायदा होगा।

अरसे से खराब है दूधली मार्ग

चरथावल। बलवाखेड़ी-दूधली मार्ग की दूरी करीब तीन किमी है। गांव की सहकारी समिति दूधली है। ऐतहहासिक गोगा म्हाड़ी और इंटर कॉलेज में बलवाखेड़ी, अलीपुरा, टांडा आदि के ग्रामीण दूधली जाते हैं। लेकिन सड़क नहीं है। पुरानी और जीर्ण-शीर्ण हालत में लोग गुजरने को मजबूर हैं। ग्रामीण गोपी चंद, मच्छंदर सिंह, दूधली प्रधान शोभित पुंडीर ने डीएम से सड़क निर्माण की मांग की।

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response