उत्तर प्रदेशभारतमुजफ्फरनगर

Muzaffarnagar बुढ़ाना – सड़क पर उतरे युवा, यूपी पुलिस परीक्षा रद्द करने की मांग

The_X_India_eng
48views

मुजफ्फरनगर। बुढ़ाना उत्तर प्रदेश पुलिस परीक्षा का पेपर समय से पहले वायरल होने से नाराज क्षेत्र के युवक सड़क पर आ गए। युवकों ने जमकर हंगामा व प्रदर्शन किया। धांधली के खिलाफ नारेबाजी करते हुए युवक तहसील मुख्यालय पहुंचे। उपजिलाधिकारी कार्यालय के सामने जमकर हंगामा व प्रदर्शन किया। पुन: निष्पक्ष परीक्षा करवाने तथा धांधली करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग को लेकर उपजिलाधिकारी को ज्ञापन दिया।

परीक्षा में पूरी तरह धांधली का आरोप लगाते हुए क्षेत्र के युवक मंगलवार को सड़क पर आ गए। परीक्षार्थी गुलफाम अली के नेतृत्व में युवाओं ने जमकर हंगामा व प्रदर्शन किया। प्रश्न पत्र के वायरल साक्ष्यों की छाया प्रति के साथ सड़क पर नारेबाजी करते हुए जुलूस के रूप में युवक तहसील मुख्यालय पहुंचे। उपजिलाधिकारी कार्यालय के सामने हंगामा व प्रदर्शन करते हुए युवक धरने पर बैठ गए। संपूर्ण समाधान दिवस में शिकायत सुन रही उपजिलाधिकारी मोनालिसा जौहरी प्रदर्शन करने वाले युवकों के बीच पहुंची। प्रदर्शनकारियों ने उपजिलाधिकारी को ज्ञापन तथा समय से पूर्व प्रश्न पत्र के वायरल साक्ष्यों की छाया प्रति देते हुए परीक्षा रद्द करवाने की मांग की।

युवकों ने परीक्षा में धांधली करने वालों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। उपजिलाधिकारी ने प्रदर्शनकारियों को आश्वासन देते हुए कहा कि उनका यह ज्ञापन उचित माध्यम से प्रदेश के मुख्यमंत्री के पास भेज दिया जाएगा। ज्ञापन देने वालों में गुलफाम अली, आमिर, मोहसीन अली, रितिक सहरावत, रोहित कुमार, गुफरान, इमरान, अजय, अनुज कुमार व साहिल सहित दर्जनों युवक मौजूद रहे। युवकों ने चेतावनी दी कि उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ तो युवक नोएडा से लखनऊ तक पद यात्रा निकालेंगे।

पहले भी लीक हुआ पेपर, नहीं हुई कार्रवाई

यूपी पुलिस परीक्षा रद्द करने की मांग को लेकर तहसील मुख्यालय पर प्रदर्शन कर रहे युवकों ने बताया कि इससे पहले भी 11 फरवरी को एआरओ व आरओ का प्रश्न पत्र समय से पहले ही आउट हो गया था। आरोप है कि अभी तक सरकार ने पेपर आउट करने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

युवाओं को मिले इंसाफ : मलिक

पूर्व सांसद और सपा प्रत्याशी हरेंद्र मलिक ने कहा कि युवाओं को इंसाफ मिलना चाहिए। जिस तरह युवाओं ने फीस के रूप में सरकार को करोड़ों रुपये दिए हैं, लेकिन इसके बदले केवल पेपर लीक हुआ है। पुलिस की भर्ती पारदर्शिता के साथ कराकर युवाओं को रोजगार के वास्तविक अवसर प्रदान किए जाने चाहिए।

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response