उत्तर प्रदेशभारतमुजफ्फरनगर

Muzaffarnagar:आपके बच्चों को बीमार कर रहा है जंक फूड, मेरठ, अलीगढ़, चंडीगढ़ सहित सभी केंद्र … सावधान

Be Careful...Junk Food Is Making Your Kids Sick
78views

मंसूरपुर (मुजफ्फरनगर)। हार्माेंस से जुड़ी बच्चों की बीमारियां पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में डॉक्टरों ने शुगर, मोटापा और बौनापन समेत अन्य बीमारियों के लक्षण और उपचार की जानकारियां साझा की। डेंगू, चिकनगुनिया, वायरल और मलेरिया की वैक्सीन को लेकर चल रहे प्रयोग की जानकारी दी। डॉक्टरों ने कहा कि पैकेट बंद खाना, जंक फूड और फास्ट फूड बीमार कर रहा है। बच्चों के खानपान पर ध्यान देकर विभिन्न बीमारियों से बचाव किया जा सकता है।

भारतीय बाल चिकित्सा अकादमी (आईएपी) मुजफ्फरनगर और शिशु रोग विभाग बेगराजपुर मेडिकल कॉलेज ने संयुक्त रूप से शिशुओं में हार्मोन से जुड़ी बीमारियों पर पिड-एंडोकॉन सेमिनार आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि नगरपालिका परिषद की अध्यक्ष मीनाक्षी स्वरूप और मेरठ से आए आईएपी इंडिया के सचिव डॉ. विनीत सक्सेना का समारोह अध्यक्ष डॉ. रवींद्र जैन ने स्वागत किया। विभिन्न राज्यों से आए लगभग 400 बाल रोग विशेषज्ञ शामिल हुए। नोएडा से आए डॉ. आईपीएस कोचर ने बच्चों में डायबिटीज और उससे होने वाले हानियों के विषय में बताया। उन्होंने कहा कि बच्चे में तेजी से हुए शारीरिक बदलाव शुरुआती लक्षण होते हैं। डॉक्टर लक्षणों की पहचान कर उपचार दें।

अलीगढ़ से पहुंचीं डॉ. आयशा अहमद ने बच्चों में मोटापा एवं उससे बचने के उपायों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि खानपान की आदतों में सुधार कर बीमारी पर नियंत्रण किया जा सकता है। पीजीआई चंडीगढ़ से आए डॉ. वीके गुप्ता ने बच्चों में बौनापन एवं ग्रोथ हार्मोन और पीजीआई रोहतक से पहुंचीं डॉ. अंजलि वर्मा ने थायराइड हार्मोन के बारे में जानकारी दी।

आईएपी इंडिया के सचिव डॉ. विनीत सक्सेना ने संगठन के संकल्प संपूर्ण स्वास्थ्य के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह अभियान गैर-संचारी रोगों के बारे में जागरूकता लाने के लिए स्कूल स्तर पर चलाया जा रहा है। डॉ. विपिन मोहन वशिष्ठ ने बच्चों के लिए ट्रायल पर चल रही वैक्सीन की जानकारी देते हुए कहा कि एक-दो वर्ष में यह वैक्सीन मिलेगी। इनसे बच्चों के उपचार में आसानी हो जाएगी। समारोह संयोजक डॉ. विजय जयसवाल ने कांफ्रेंस की रूपरेखा बताई। इससे पहले समारोह का उद्घाटन दीप प्रज्ज्वलन एवं सरस्वती वंदना के साथ किया गया। संचालन डॉ. अभिषेक यादव और डॉ. अमृतेश रंजन ने किया। डॉ. रवींद्र जैन ने आभार जताया।

सेमिनार में यहां के डॉक्टर हुए शामिल

सेमिनार में बिजनौर, मेरठ, दिल्ली, देहरादून, राजस्थान, हरियाणा से आए डॉक्टर शामिल हुए और अलग-अलग विषयों पर लोगों को जागरूक किया।

ये रहे मौजूद

सेमिनार में डॉ. आरएन गंगल, डॉ. ईश्वर चंद्रा, डॉ. हरीश कुमार, डॉ. हेमंत कुमार, डॉ. प्रदीप कुमार, डॉ. अजय पंवार, डॉ. सुनील सिंघल, डॉ. तुषार गुप्ता, डॉ. गिरीश कुमार, डॉ. समर्थ कुमार, डॉ. निधि मलिक, डॉ. वीके गुप्ता, डॉ. अंजलि वर्मा, डॉ. विपिन एम वशिष्ठ, डॉ. सुगंधा सिंह, डॉ. विकास मेहरोत्रा, डॉ. बिंदु अ्रग्रवाल, डॉ. कोपल मित्तल, डॉ. नवरतन गुप्ता, डॉ. आस्था अग्रवाल, डॉ. प्रियंका जैन शामिल हुए। समारोह चेयरमैन व शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉ. मनीष अग्रवाल ने अतिथियों का स्वागत किया।

छात्र-छात्राओं को मेहनत से पढ़ाई का संदेश

मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज के शिशु रोग विभाग के परास्नातक के छात्रा- छात्राओं के प्रयास की अतिथियों ने सराहना की। वक्ताओं ने कहा कि छात्र-छात्राओं ने एक दिवसीय सेमिनार के लिए कड़ी मेहनत की। विशेषज्ञों ने आह्वान किया कड़ी मेहनत कर पढ़ाई करें और समाजसेवा में योगदान दें।

जंक फूड बिगाड़ रहा बच्चों की सेहत

सेमिनार में शामिल हुए बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. ईश्वर चंद्रा ने बताया कि जंक फूड, फास्ट फूड या बाजार में मिलने वाला कोई भी पैकेट बंद भोजन बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास को प्रभावित करता है। मोटापा, शुगर, बौनापन समेत अन्य बीमारियां घेर लेती हैं। सबसे जरूरी यह है कि खानपान पर ध्यान लगाएं। घर में बना सादा भोजन जन्म से 18 साल तक के युवाओं को खिलाना चाहिए। बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. निधि मलिक ने बताया कि खानपान में शुद्धता से ही बीमारियों से बचाव किया जा सकता है।

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response