अपराधउत्तर प्रदेशभारतमुजफ्फरनगर

यूपीः कन्नौज में हिस्ट्रीशीटर से मुठभेड़ में मुजफ्फरनगर का सिपाही शहीद

constable sachin rathi
423views

शहीद सिपाही की 5 फरवरी को महिला सिपाही से होनी थी शादी
सिपाही की मौत से परिवार में कोहराम, गांव में पसरा सन्नाटा
शाहपुर थाना इलाके के शाहडब्बर गांव का रहने वाला था सिपाही
2019 में हुआ था यूपी पुलिस में भर्ती, कन्नौज के विशुनगढ़ में था पोस्टेड

यूपी के कन्नौज में सोमवार रात हुई मुठभेड़ में घायल मुजफ्फरनगर के शाहपुर थाना इलाके के शाह डब्बर गांव निवासी उत्तर प्रदेश पुलिस के जवान सचिन राठी उर्फ अंकित की मौत हो गई. सिपाही ने देर रात करीब 12 बजे दम तोड़ा.

सचिन राठी के शहीद होने की खबर से उसके परिवार को में मातम पसर गया. शहीद सिपाही की 5 फरवरी को महिला सिपाही से शादी होनी थी. मृतक सिपाही का पैतृक गांव में ही अंतिम संस्कार किया जाएगा. परिजन देर रात तक शहीद का पार्थिव शरीर देकर गांव लौटेंगे.

Constable Sachin Rathi
सिपाही सचिन राठी (फाइल फोटो)

मुजफ्फरनगर जिले के शाहपुर थाना इलाके के शाह डब्बर गांव निवासी वेदपाल राठी का छोटा बेटा सचिन राठी 2019 में उत्तर प्रदेश पुलिस में भर्ती हुआ था. सचिन फिलहाल कन्नौज जिले के विशुनगढ़ थाना में बतौर मुख्य आरक्षी के रूप पोस्टेड था.

सचिन के अलावा वेदपाल का एक बड़ा बेटा जतिन राठी और एक छोटी बेटी है. परिवार को जैसे ही सचिन के शहीद होने की खबर मिली, पूरे परिवार में कोहराम मच गया. परिजन अल-सुबह ही सचिन के पार्थिव शरीर को लेने के लिए कन्नौज के लिए निकल गए थे.

shah dabbar
शाहडब्बर गांव

शाह डब्बर गांव के प्रधान नीरज कुमार बताते हैं, “ये कल शाम 5 बजे की घटना है. बदमाशों से मुठभेड़ में सचिन को गोली लगी थी. जिसकी वजह से उसका देहांत हो गया. पोस्टमार्टम के बाद डेड बॉडी को लेकर परिवार वाले कन्नौज से चले है. देर रात तक ही उनके यहां पहुंचने की संभावना है.”

ये था पूरा मामला
कन्नौज के एसपी अमित कुमार बताते हैं, “विशुनगढ़ थाना इलाके के धरनीधरपुर नगरिया गांव निवासी हिस्ट्रीशीटर अशोक यादव उर्फ मुन्नालाल द्वारा अपने घर से पुलिस पर की गई फायरिंग में सिपाही को गोली लगी. जिसे उपचार के लिए कानपुर हायर सेंटर रेफर किया गया.”

kannauj police
कन्नौज जिला अस्पताल में मौजूद पुलिस बल

एसपी अमित कुमार बताते हैं, “हिस्ट्रीशीटर अशोक यादव, उसके बेटे टिंकू और उसकी बीवी ने लगातार पुलिस पर हमला किया. मौके पर कई थानों की पुलिस फोर्स को बुलाया गया. पुलिस द्वारा इन लोगों की करीब ढाई-तीन घंटों तक घेराबंदी की गई.

अंधेरा होने पर अशोक यादव और उसके बेटे ने पुलिस पर फायरिंग करते हुए भागने की कोशिश की, लेकिन पुलिस की जवाबी कार्रवाई में गोली लगने से पिता-पुत्र घायल हो गए.”
एसपी अमित कुमार दावा करते हैं, “जिन तमंचों से ये लोग फायरिंग कर रहे थे, उन्हें बरामद कर लिया गया है. तलाशी के दौरान घर के अंदर से डबल बैरल बंदूक भी बरामद की गई है. गिरफ्तारी के साथ-साथ पुलिस अग्रीम कार्रवाई कर रही है”

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response