उत्तर प्रदेशभारत

पत्नी को दस साल का कठोर कारावास

Demo pic
39views

कानपुर देहात। रसूलाबाद क्षेत्र में करीब आठ साल पहले एक व्यक्ति की रात में सोते समय धारदार हथियार से वार कर हत्या कर दी गई थी। मामले की सुनवाई अपर जिला जज / एफटीसी द्वितीय की अदालत में चल रही थी। शुक्रवार को अदालत ने मामले में मृतक की पत्नी को गैर इरादतन हत्या का दोषी ठहराते हुए दस साल कठोर कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही उस पर अर्थदंड भी लगाया है।

सहायक शासकीय अधिवक्ता धनंजय पांडेय व प्रदीप कुमार पांडेय ने बताया कि रसूलाबाद क्षेत्र के भवनपुर गांव निवासी रामलखन ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जिसमे बताया था कि 13 जुलाई 2015 की रात करीब दो बजे उसके पुत्र को किसी अज्ञात ने सोते समय धारदार हथियार से हमला कर उसकी हत्या कर दी है। मामले में पुलिस ने विवेचना करते हुए मृतक की पत्नी सुमन के खिलाफ साक्ष्य पाते हुए उसे जेल भेज दिया था। साथ ही उसके खिलाफ आरोप पत्र अदालत में प्रस्तुत किए थे। मामले की सुनवाई अपर जिला जज / एफटीसी द्वितीय आनंद प्रिय गौतम की अदालत में चल रही थी। शुक्रवार को दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने आरोपी सुमन को गैर इरादतन हत्या का दोषी ठहराते हुए दस साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। इसके साथ ही पांच हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है। वहीं अर्थदंड अदा न करने पर दोषी को एक माह का अतिरिक्त कारावास भुगतने के आदेश दिए हैं।

वादी मुकदमा ने तहरीर नामजद देने की बात कही थी

सहायक शासकीय अधिवक्ता धनंजय पांडेय ने बताया कि मामले में वादी मुकदमा रामलखन ने अदालत में दिए अपने बयान में बताया था कि उसने अपने पुत्र की हत्या में अरुण कुमार, पसरावल, बलराम व सोनू के खिलाफ थाने में तहरीर दी थी। उसने अज्ञात के खिलाफ तहरीर नहीं दी थी। वहीं पत्रावली में तहरीर पर अंगूठा निशान को देखकर उसे अपना स्वीकार किया था। जबकि मामले में दौरान विवेचना के दौरान पुलिस ने दोषी सुमन की निशानदेही पर आला कत्ल बरामद किया था। घटना के समय वह घर पर मौजूद थी।

साक्षी झूठ बोल सकता है परिस्थितियां नहीं

मामले में अदालत ने दोषी को सजा सुनाते हुए अपने आदेश में टिप्पणी करते हुए कहा कि विधि का स्थापित सिद्धांत है कि साक्षी झूठ बोल सकता है। परन्तु परिस्थितियां नहीं। मामले में परिस्थिति जन्य साक्ष्य पर अदालत ने यह निष्कर्ष निकाला कि दोषी सुमन अपने मृतक पति के बगल में चारपाई पर सोई थी। वहीं विवेचना में उसकी निशानदेही पर उसके घर से आला कत्ल हसिया बरामद किया गया था। जिससे साबित होता है कि सुमन ने ही अपने पति की हत्या की ।

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response