अपराधउत्तर प्रदेशभारतमुजफ्फरनगर

UP: कोरोना काल में जमा नहीं कराई फीस तो स्कूल ने अब दर्ज कराया मुकदमा, कई अन्य स्कूलों को भी लपेटा

FIR
FIR
359views

यूपी के मुजफ्फरनगर में एमजी वर्ल्ड विजन स्कूल की प्रधानाचार्या मृणालिनी अनंत ने नई मंडी थाने में 8 अभिभावकों के विरुद्ध कोरोना काल की फीस जमा नहीं करने का मुकदमा दर्ज कराया है। आरोप लगाया कि इन अभिभावकों ने फर्जी TC बनवाकर दूसरे स्कूल में प्रवेश कराया है।

 

दर्ज कराये गए इस मामले में नगर के ही दी एस.डी.पब्लिक स्कूल समेत कई अन्य प्रमुख स्कूलों को भी 120 बी का मुलजिम बनाया गया है ,जिन्होंने बिना टीसी के इन बच्चों को एडमिशन दिया था।

 

नई मंडी कोतवाली ने न्यायालय के आदेश 156 (3) पर 8 अभिभावकों के खिलाफ 420, 120बी, 406 में मुकदमा दर्ज किया है। प्रधानाचार्या ने आरोप लगाया कि इन 8 अभिभावकों ने कोरोना काल 2020-21 में उनके विद्यालय की फीस जमा नहीं की। बिना टीसी के दूसरे विद्यालय में प्रवेश करा दिया।

 

आरोप लगाया कि फर्जी टीसी तैयार कर दूसरे विद्यालयों में जमा कराई है। पुलिस ने तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर जांच अधिकारी नियुक्त कर दिया है।

 

अभिभावकों को मुकदमा दर्ज होने की जानकारी तब मिली जब पुलिस अधिकारी ने जांच के लिए उन्हें बुलाया। अभिभावकों का कहना है कि ‘वह पूरी फीस जमा कर चुके हैं। टीसी के नाम पर उनसे 18-18 हजार रुपये मांगे गए थे, जो हमने देने से मना कर दिया। हमने दूसरे स्कूलों में एडमिशन करा दिया। सभी बच्चे कक्षा एक से तीन तक के थे, जिनके अंक तालिका के आधार पर प्रवेश हो गए।

 

अभिभावकों का कहना है कि ’11 मार्च 2022 में एसीजेएम प्रशांत कुमार प्रार्थना पत्र को खारिज कर चुके हैं।’

 

इन पर मुकदमा हुआ दर्ज

मुनीम काॅलोनी नई मंडी के मनोज गुप्ता, जड़ौदा गांव के दिवेश कुमार, सरकुलर रोड के आनंद विहार के अर्पित चौधरी, वसुंधरा के सचिन शर्मा, एटूजेड के राहुल शर्मा, प्रमोद कुमार, अंबा विहार के गुलरेज, मयूर विहार के अनुज गुप्ता शामिल हैं।

MG WORLD VISSION PUBLIC SCHOOL MUZAFFARNAGAR

 

‘हमारी पूरी फीस नहीं दी गई’ :प्रधानाचार्या

एमजी वर्ल्ड विजन स्कूल की प्रधानाचार्या मृणालिनी अनंत का कहना है कि ‘हमारे स्कूल से टीसी नहीं ली गई। 15 नवंबर 2021 को एसएसपी को प्रार्थना पत्र दिया था। सुनवाई नहीं हुई तो न्यायालय का सहारा लिया।

अभिभावक मनोज गुप्ता का कहना है कि ‘स्कूल की ओर से तथ्य छिपाए गए हैं। पहले प्रार्थना पत्र खारिज हो गया था। स्कूल बंद होने के बावजूद पूरी फीस जमा की गई थी।’

 

‘प्रवेश में टीसी की आवश्यकता नहीं !’ :बीएसए

बीएसए शुभम शुक्ला का कहना है कि ‘शिक्षा के अधिकार के अंतर्गत कक्षा पांच तक सीधे प्रवेश हो सकता है। किसी भी टीसी और अंकतालिका की आवश्यकता नहीं है। एक्ट में ये प्रावधान है।’

 

कई अन्य स्कूलों को भी लपेटा!

एमजी वर्ल्ड विजन ने अपनी याचिका में उन स्कूलों को भी मुलजिम बनाने का अनुरोध किया है जिन्होंने इन बच्चों को अपने स्कूलों में बिना टीसी के प्रवेश दिया है, उन स्कूलों में दी.एस.डी पब्लिक स्कूल,एस.डी.पब्लिक स्कूल और माउंट लिट्रेरा जैसे नगर के प्रमुख स्कूल शामिल है।

 

डीएम से मिले आरोपित अभिभावक

इस संबंध में अभिभावकों ने DM अरविंद मलप्पा बंगारी से भी मुलाकात की और उन्हें अपना प्रार्थना पत्र दिया इस पर जिलाधिकारी ने भी किसी भी तरह का अन्याय न होने देने का भरोसा दिलाया है। इस मामले में आगे क्या होता है, यह तो भविष्य के गर्भ में है लेकिन देश भर में स्कूल की फीस न देने पर अभिभावकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराए जाने का यह अनोखा मामला जिले में पहली बार सामने आया है।

 

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response