उत्तर प्रदेशभारत

प्रेमिका से मुलाकात करने के लिए कार लूटी,विरोध करने पर चालक को उतारा मौत के घाट

murderer accused
59views

मझोला के नया मुरादाबाद निवासी कार चालक रामरतन की हत्या तीन बदमाशों ने कार लूटने के लिए की थी। पुलिस ने मंगलवार को तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर इस हत्याकांड का खुलासा कर दिया। बिजनौर निवासी मुख्य आरोपी अभय विश्नोई को अपनी प्रेमिका से मिलने बागपत चलाना था।

इसलिए उसने अपने दो अन्य दोस्तों के साथ साजिश रचकर मुरादाबाद के इंपीरियल तिराहा स्थित टैक्सी स्टैंड से राम रतन की कार बुक कराई थी। बिलारी में ले जाकर तालाब में डुबोकर उसकी हत्या करने के बाद कार लूटकर भाग गए थे।

एसएसपी हेमराज मीना ने बताया कि कोतवाली के इंपीरियल तिराहा टैक्सी स्टैंड से दो मार्च की सुबह करीब पांच बजे तीन युवक रातरतन की कार बुक कराकर ले गए थे। इसके बाद से रामरतन लापता था। इसी बीच 5 मार्च को बिलारी थाना क्षेत्र के तिसबा गांव स्थित तालाब में एक शव मिला था।

मृतक की जेब से एक फोटो स्टूडियो का कार्ड मिला था। इसी कार्ड की मदद से मृतक की पहचान मझोला के नया मुरादाबाद निवासी कार चालक रामरतन के रूप में हुई थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डूबने से मौत होने की पुष्टि हुई थी। एसओजी ने इस केस पर काम किया।

टैक्सी स्टैंड की फुटेज की मदद से टीम ने बिजनौर के स्योहरा थाना क्षेत्र के भगवानपुर रेनी निवासी अभय विश्नोई, इसी गांव में रहने वाले उसके दोस्त दीप विश्नोई और बिलारी थाना क्षेत्र के गांव आजमपुर निवासी मधुर चौधरी को दबोच लिया।

 

आरोपियों की निशानदेही पर अमरोहा के कैलसा में खड़ी रामरतन की कार भी बरामद कर ली थी। पुलिस पूछताछ में आरोपी अभय विश्नोई ने बताया कि उसे अपनी प्रेमिका से मिलने बागपत जाना था। इसके लिए कार की जरूरत थी।

उसने अपने दोस्तों की मदद से कार बुक की थी। रामरतन से ठाकुरद्वारा के लिए कार बुक कराई थी। कार में बैठने के बाद रामरतन पर दबाव बनाया कि वह कार लेकर बागपत चले लेकिन रामरतन ने जाने से इन्कार कर दिया था।

इसके बाद रामरतन के हाथ पैर बांध कर बिलारी के तिसाबा गांव स्थित तालाब में डुबो कर मार दिया था। इसके बाद उसकी कार लेकर भाग गए थे। मंगलवार दोपहर बाद तीनों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

पहले दोस्त की कार से प्रेमिका से मिलने गया था अभय विश्नोई

एसपी सिटी अखिलेश भदौरिया ने बताया कि मुख्य अभय दिल्ली में कॉल सेंटर में नौकरी कर रहा था। इसी दौरान दिल्ली में उसकी मुलाकात एक युवती से हो गई थी। इसके बाद युवती उससे अलग हो गई और बागपत में अपने एक रिश्तेदार के घर चली गई थी।

प्रेमिका से मिलने के लिए उसने अपनी कार 25 हजार में बेच दी थी। 24 फरवरी को वह अपने एक दोस्त स्योहारा के ढींगरपुर निवासी मोहित सिंह की टीयूवी 300 कार मांगी और अपने दूसरे दोस्त दीपू और मधुर को साथ लेकर अपनी प्रेमिका से मिलने बागपत चला गया था। वहां युवती के रिश्तेदारों ने उसे घेर लिया था। तब आरोपी वहां से भाग आए थे।

बिजनौर पुलिस ने अभय के पिता और भाई को उठाया

अभय अपने दोस्त मोहित की कार लौटाने से पहले किसी अन्य कार की व्यवस्था करने में लगा था। कई दिन बाद भी अभय ने मोहित की कार नहीं लौटाई तो उसने पुलिस को सूचना दे दी थी। बिजनौर जनपद के स्योहारा थाने की पुलिस ने अभय के पिता और भाई को उठाकर कार वापस करने के लिए दबाव बनाया था।

दो मार्च को रामरतन की कार लूटने के बाद अभय ने मोहित की कार दीपू विश्नोई और मधुर को दे दी थी। ये दोनों स्योहारा में मोहित को कार पहुंचाने जा रहे थे। तब पुलिस ने दोनों को पकड़ लिया था। इस की सूचना मिलने पर अभय रामरतन की कार अमरोहा के कैलसा में छोड़कर भाग गया था।

बागपत जाने से इनकार, तालाब में डुबो कर मारा

तीनों ने दो मार्च की सुबह करीब साढ़े पांच बजे रामरतन की कार ठाकुरद्वारा तक जाने की बात कहकर 1400 रुपये में बुक कर ली थी। तीनों कार में बैठकर रामरतन को लेकर ठाकुरद्वारा रोड पर गए और ठाकुरद्वारा से बागपत जाने के लिए दबाव बनाने लगे।

चालक ने जाने से इन्कार कर दिया था। तब चालक रामरतन को पकड़ कर उसकी जैकेट से हाथ पैर बांध कर कार की पीछे वाली सीट के सामने पायदान पर डाल दिया। इसके बाद आरोपी मधुर चौधरी के बताए अनुसार बिलारी के गांव तिसावा में तालाब पर पहुंच गए थे।

वहां रामरतन को कार से उतार कर तीनों ने उसे पानी में डूबा कर मार दिया था। उसके पास से मिले पहचान पत्र और गाड़ी के कागजात भी आरोपियों ने वहीं जला दिए थे और कार लेकर भाग निकले थे।

पोस्ट शेयर करें

Leave a Response